उत्तर प्रदेशट्रेंडिंगराजनीतिव्यापार

मुख्यमंत्री योगी ने 77 ट्रैक्टरों को दिखाई हरी झंडी

सहकारी समितियों के फार्म मशीनरी बैंकों को उपलब्ध कराए ट्रैक्टर

देश में चीनी तथा गन्ना उत्पादन में प्रथम स्थान पर यूपी: योगी आदित्यनाथ
LP Live, Lucknow: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को प्रदेश की सहकारी गन्ना समितियों स्थापित मशीनरी बैंकों के लिए 77 ट्रैक्टरों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इन ट्रैक्टरों को मशीनरी बैंकों द्वारा किसानों की सुविधा के लिए इस्तेमाल किया जाएगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने सरकारी आवास पर आयोजित एक समारोह मे किसानों की सुविधा के लिए 77 ट्रैक्टर उपलब्ध कराने के लिए गन्ना विभाग की टीम को बधाई देते हुए कहा कि सरकार के अभी 06 वर्ष पूरे नहीं हुए हैं और आज उत्तर प्रदेश में एक नया रिकॉर्ड भी बन रहा है। एक नई उपलब्धि गन्ना विभाग के साथ जुड़ रही है। उन्होंने कहा कि विगत लगभग 06 वर्षां में प्रदेश के गन्ना किसानों को किये गये गन्ना मूल्य की भुगतान राशि आज 02 लाख करोड़ रुपये से अधिक हो जाएगी। देश के अनेक राज्यों का वार्षिक बजट भी 02 लाख करोड़ रुपये का नहीं है और उत्तर प्रदेश में सरकार अपने अन्नदाता किसानों की मेहनत और उनके पुरुषार्थ का पैसा डीबीटी द्वारा एस्क्रो एकाउण्ट के माध्यम से उनके खातों में भेजने का काम कर रही है। प्रदेश की लगभग 105 चीनी मिलें 10 दिन में गन्ना मूल्य का भुगतान कर रही हैं। शेष 14-15 चीनी मिलों द्वारा भी समयबद्ध ढंग से भुगतान किये जाने के लिए सरकार बल दे रही है। प्रदेश सरकार का 14 दिन में गन्ना मूल्य भुगतान का लक्ष्य है। शीघ्र ही हम उस दिशा में आगे बढ़ जाएंगे।

सम्मान निधि से 2.60 करोड़ किसानों को लाभ
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने किसानों के कल्याण के लिए स्वॉयल हेल्थ कार्ड, प्रधानमंत्री किसान बीमा योजना, प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना, कृषि लागत का डेढ़ गुना न्यूनतम समर्थन मूल्य उपलब्ध कराने के साथ प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का लाभ सभी किसानों को दिया जा रहा है। उत्तर प्रदेश के 02 करोड़ 60 लाख अन्नदाता किसानों के खातों में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के माध्यम से पिछले साढ़े तीन वर्षों में 51 हजार करोड़ रुपये से अधिक की धनराशि उपलब्ध करायी गयी है।

गन्ने की खेती का दायरा बढ़ा
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के लागू होने के बाद अन्नदाता किसान प्रति हेक्टेयर 10 टन अतिरिक्त गन्ना उत्पादन करने में सफल हुआ है। प्रदेश में 08 लाख हेक्टेयर अतिरिक्त भूमि पर गन्ने की खेती का दायरा बढ़ा है। प्रदेश में बन्द पड़ी चीनी मिलों को चलाया गया है। पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह जी की कर्मभूमि रमाला की चीनी मिल आज मजबूती से चल रही है। डबल इंजन की सरकार ने जनपद बस्ती के मुण्डेरवा तथा जनपद गोरखपुर के पिपराइच में नई चीनी मिलें स्थापित की हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि गन्ना किसानों के पुरुषार्थ से उत्तर प्रदेश देश में सर्वाधिक एथेनॉल उत्पादन करने वाला राज्य है। इसका भविष्य बहुत उज्ज्वल है। एथेनॉल का प्रयोग डीजल और पेट्रोल में किया जा रहा है। इसके माध्यम से ग्रीन ईंधन उपलब्ध कराने का कार्य हमारे गन्ना किसान कर रहे हैं। अब हमारे देश का पैसा पेट्रो डॉलर के रूप में बाहर नहीं जाएगा। आज प्रदेश देश में चीनी तथा गन्ना उत्पादन में प्रथम स्थान पर है। आज चीनी की रिकवरी बढ़ी है।

इस अवसर पर चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी, चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास राज्यमंत्री संजय सिंह गंगवार, मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र, कृषि उत्पादन आयुक्त मनोज कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास संजय आर भूसरेड्डी, अपर मुख्य सचिव कृषि देवेश चतुर्वेदी, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री, गृह एवं सूचना संजय प्रसाद, निदेशक सूचना शिशिर सहित वरिष्ठ अधिकारीगण एवं किसान उपस्थित थे।

admin

लोकपथ लाइव वेबसाइड एक न्यूज बेवसाइट है। यहां खबरों के साथ देश के प्रतिभाशाली व्यक्तियों का परिचय भी उनकी उपलब्धियों के साथ कराना हमारी प्राथमिकता में शामिल है। हमारा मकसद आप तक सच्ची खबरें तथ्यों के साथ पहुंचाना है। लोकपथ लाइव पर अंतराष्ट्रीय, राष्ट्रीय सहित विभिन्न राज्यों के जिलों और गांव तक की ताजा खबरें पढ़ सकते हैं। - प्रधान संपादक

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button