उड़ीसाछत्तीसगढ़झारखंडतमिलनाडुदेशपश्चिम बंगालराजनीतिस्वास्थ्य

ओडिशा रेल हादसे में तीन सौ के करीब पहुंची मरने वालों की संख्या

राहत व बचाव कार्य जारी, फंसे लोगों को निकालकर अस्पताल पहुंचाने का सिलसिला जारी

प्रधानमंत्री ने की उच्च स्तरीय बैठक, घटना के कारणों की उच्च स्तरीय जांच करेगी गठित कमेटी
LP Live, New Delhi: ओडिशा के बालासोर में कल शाम हुए तीन ट्रेनों के आपस में टकराने से हुए भीषण हादसे में अब तक करीब तीन सौ लोगों की मौत होने की खबर है। जबकि एक हजार के आसपास घायल हुए हैं, जिनका विभिन्न अस्पतालों में इलाज कराया जा रहा है। अस्पतालों में भी ज्यादातर की हालत इतनी गंभीर है कि मौतों का आंकड़ा कल शाम से अब तक तेजी से बढ़ा है। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव व केंद्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान मौके पर हैं और बचाव अभियान और बहाली कार्य की निगरानी कर रहे हैं। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष कटक अस्पताल में हैं और डीजी/स्वास्थ्य, रेलवे बोर्ड बालासोर अस्पताल में हैं, जो घायल यात्रियों के इलाज की निगरानी कर रहे हैं।

रेलवे के सूत्रों के अनुसार ट्रेन सं. 12841 शालीमार-चेन्नई कोरोमंडल एक्सप्रेस और ट्रेन सं. 12864 सर एम विश्वेश्वरैया-हावड़ा सुपरफास्ट एक्सप्रेस 02.06.2023 को बहनागा बाजार रेलवे स्टेशन के पास लगभग शुक्रवार की शाम करीब सात बजे पटरी से उतर गई थी। ओडिशा के बालासोर में बहनागा बाजार स्टेशन के पास तीन ट्रेनों की टक्कर इतनी भयानक थी कि एक के बाद एक ट्रेनें बेपटरी होकर दूसरे ट्रैक पर जा गिरीं और अन्य ट्रेनों को चपेट में लेती गईं। प्रत्यदर्शियों की माने तो आउटर लाइन पर मालगाड़ी खड़ी थी। तभी हावड़ा से चेन्नई जा रही कोरोमंडल ट्रेन 300 मीटर पर पहले डिरेल हो गई और उसका ईंजन मालगाड़ी पर चढ़ गया और कोरोमंडल ट्रेन की पीछे वाली बोगी तीसरे ट्रैक पर जा गिरी, जिस तीसरे ट्रैक पर तेजी से आ रही यशवंतपुर एक्सप्रेस ट्रैक पर गिरकर बोगी से टकरा गई। बालासोर में एक के बाद एक तीन ट्रेनों की टक्कर इतनी भयानक और भीषण है, जिसकी सिर्फ कल्पना ही की जा सकती है। टक्कर इतनी भयानक है कि रेल ट्रैक पर कई किलोमीटर पटरी गायब है। भीषण टक्कर के बाद पटरी टूटकर दूर जा गिरी है। प्रत्यक्षदर्शी बताते हैं कि टक्कर के बाद एक के बाद एक कई आवाजें आती रहीं। घटनास्थल पर जो हालात हैं तो देखा जा रहा है कि ट्रेन की बोगियों से पहिये अलग हो चुके हैं। बोगियां अलग पिचकी परखच्चे बनी पड़ी हैं और ट्रेन के दोनों पहिये अलग हैं। टक्कर के बाद स्टील की बोगियां ऐसे पिचकी हुई है, जिनमें फंसे यात्रियों को निकालने के लिए गैस कटर का इस्तेमाल किया जा रहा है और उन्हें अस्पतालों में भर्ती करने के लिए भेजा जा रहा है।

पीएम मोदी ने की उच्च स्तरीय बैठक
प्रधानमंत्री मोदी ने बालासोर ट्रेन दुर्घटना के संबंध में स्थिति की समीक्षा के लिए एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह समेत कई मंत्री और वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद हैं। रेलवे की ओर से सोरो मेडिकल यूनिट में घायल यात्रियों को 50 हजार रुपये की अनुग्रह राशि सौंपी गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी ट्रेन हादसे के बाद पल-पल की जानकारी ले रहे हैं। वहीं दो केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव और धर्मेंद्र प्रधान घटनास्थल पर पहुंचकर हालातों का जायजा ले रहे हैं।

बचाव अभियान में लगे हेलीकॉप्टर
भारतीय वायुसेना द्वारा राहत और बचाव कार्यों के लिए 02 एमआई-17 हेलीकॉप्टरों को तैनात किया गया है, जिनके जरिए जमीनी स्तर पर रेलवे अधिकारियों के तालमेल के साथ रेस्क्यू ऑपरेशन को अंजाम दिया जा रहा है। वहीं मौके पर दुर्घटनाग्रस्त ट्रेनों में फंसे लोगों को निकालकर उन्हें अस्पताल ले जाने के लिए अतिरिक्त बसों और ट्रेन कोचों का भी इंतजाम किया गया है। वहीं मौके पर एनडीआरएफ की नौ टीम के 300 से अधिक जवान और अन्य एजेंसियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। एनडीआरएफ के महानिदेशक अतुल करवाल ने ट्रेन दुर्घटना के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि यह एक बहुत ही दुखद घटना है, यह जानमाल का बहुत बड़ा नुकसान है। यह हमारे इतिहास की तीसरी ऐसी बड़ी घटना है, जिस रफ्तार से तीन ट्रेनें आपस में टकराईं उसके परिणामस्वरूप कई डिब्बे डिरेल हो गए और बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए। एंबुलेंस और सहायता सेवाओं के साथ सेना की चिकित्सा और इंजीनियरिंग टीमों को पूर्वी कमान से तैनात मौके पर कार्यरत हैं।

घायलों को बेहतर इलाज पहली प्राथमकिता: रेल मंत्री
ओडिाशा में रेल हादसे के बाद केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान के साथ मौके पर पहुंचकर रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने दुर्घटनास्थल सभी दिवंगत लोगों के परिवारों के प्रति मेरी संवदेना व्यक्त की और कहा कि हमारी पहली प्राथमिकता घायलों का बेहतर इलाज कर जान बचाना है। हादसा कैसे हुआ इसकी जांच के लिए एक उच्चस्तरीय कमेटी भी गठित की गई है, रेलवे सेफ्टी कमिश्नर भी इसकी जांच करेंगे। दुर्घटनास्थल पर बचाव और राहत कार्य जारी है। बालासोर में एक के बाद एक तीन ट्रेनों की टक्कर इतनी भयानक और भीषण है, जिसकी सिर्फ कल्पना ही की जा सकती है। टक्कर इतनी भयानक है कि रेल ट्रैक पर कई किलोमीटर पटरी गायब है।

जानकारी के लिए रेलवे ने हेल्पलाइन नंबर जारी किए
हावड़ा हेल्पलाइन नंबर- 033-26382217
खड़गपुर हेल्पलाइन नंबर- 8972073925 & 9332392339
बालासोर हेल्पलाइन नंबर- 8249591559 & 7978418322
शालीमार हेल्पलाइन नंबर-: 9903370746
संतरागाछी जंक्शन हेल्पलाइन नंबर-: 8109289460, 8340649469

admin

लोकपथ लाइव वेबसाइड एक न्यूज बेवसाइट है। यहां खबरों के साथ देश के प्रतिभाशाली व्यक्तियों का परिचय भी उनकी उपलब्धियों के साथ कराना हमारी प्राथमिकता में शामिल है। हमारा मकसद आप तक सच्ची खबरें तथ्यों के साथ पहुंचाना है। लोकपथ लाइव पर अंतराष्ट्रीय, राष्ट्रीय सहित विभिन्न राज्यों के जिलों और गांव तक की ताजा खबरें पढ़ सकते हैं। - प्रधान संपादक

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button